बुध्दिमान बनो
क्या कोई बुद्दिमान यह कल्पना करता है या यह विश्वास रखता है कि बुध्दि और बुध्दिमत्ता से खाली एक शक्तती ने उसे अपने-आप संयोग से सृष्टि की है?

Related Posts


Subscribe