यह सारी वाणी कि बडी संख्या को हदीस कहते हैं। सहाबा से उसके चयन करने में बड़ी गंभीरता अपनाई गई। इसी प्रकार बहुत सी हदीसें एकट्ठा की गई।

Related Posts


Subscribe