दोनों के बीच कितना ही बड़ा अंतर है

दोनों के बीच कितना ही बड़ा अंतर है
एक ईसाइ होने के कारण मेरे पास पवित्र ख़ुरआन में ईशवर के एकी करअ के सिद्धांत और तीन ईशवर को मानने के सिद्धांत के बीच तुलना करने के अलावा कोई विकल्प नही था। मैंने यह पाया कि दूसरा सिद्धांत (यानी ईसाई) इस्लामी सिद्धांत से अधिकतर दर्जे कम है। विशेष तौर पर इस सिद्धांत के कारण मै ईसाई धर्म से अपना विश्वास खोने लगा। क्योंकि किसी भी धर्म मैं ईशवर पर विश्वास रखना सबसे पहला और महत्वपूर्ण सिद्धांत है। जब धार्मिक संकलपना के अनुसार ईशवर पर मेरा विश्वास ही ग़लत हो, तो इसका मतलब दूसरी सारी प्रयासों का कोई लाभ और लक्ष्य नही रहता है।

Tags: